◆आम के आम गुठली के मिलते हैं दाम : संजय गुप्ता

◆घर की छत को बना दिया बगिया

◆प्रकृति संरक्षण की दिशा में यह कदम उल्लेखनीय

◆आम के आम गुठली के मिलते हैं दाम : संजय गुप्ता

You get the price of mango and its seed - Sanjay Gupta

मनुष्य जीवन के लिए पृथ्वी तत्व (खाद्य पदार्थ), पानी, अग्नि (ऊर्जा/मेटाबॉलिज्म), आकाश (शून्य) तथा वायु (ऑक्सीजन) परम आवश्यक है। इन्हीं पंच तत्वों की समृद्धि के लिए जीवन मिला है।

इसकी समृद्धि करते हुए जो जीवन जीता है, वह मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम का अनुयायी होता है और जो इसकी क्षति करता है वह रावण का अनुयायी माना जाएगा।

सामान्य आदमी की क्या बात की जाए, जिन्हें बहुत महान माना जा रहा है, वे भी बोलने में प्रकृति की महत्ता पर ढेरों ज्ञान दे देते हैं लेकिन वह सिर्फ ज्ञान तक ही सीमित है।

अधिकांश की प्रवृत्ति हो गई है कि त्याग और कष्ट का जीवन दूसरे जीएं सिर्फ़ 56 भोग वह खुद लगाए।

◆जेहिं जाने तेहिं देई जनाई जानत तुम्हहिं तुम्हहिं होई जाई- अच्छे काम तो प्रकृति और पुरूष यानी महादेव उसी से कराते हैं, जिन पर उनकी कृपा होती हैं।

इसी कृपा का प्रभाव नगर के संजय स्टोर के प्रोपराइटर संजय कुमार गुप्ता पर देखने को मिल रहा है, जो प्रकृति को देव-शक्ति मानकर उसकी अभ्यर्थना में लगे हैं।

◆घर के टॉप छत पर पेड़-पौधों का उपवन बना दिया है : संजय गुप्ता ने अपने घर के टॉप हिस्से के 15 स्क्वायर फीट को पूरी तरह बाग-बगीचा बना दिया है। गमलों में फल-फूल की बागवानी की है।

◆’आम के आम गुठली के दाम’: इस बागवानी का नतीजा यह है कि भगवान की पूजा के साथ फल, सब्जी प्रचुर मात्रा में तो मिलती ही है, साथ ही नीचे के कमरे स्वाभाविक रूप से ठण्डे रहते हैं।

संजय गुप्ता इसकी प्रेरणा देने वाले ग्रीन गुरु अनिल सिंह (शिक्षक) की भी सराहना करते हैं।

Leave a Comment